क्षेत्रीय पार्टियों का प्रभाव 180 सीटों पर, भाजपा को बहुमत न मिलने पर किंगमेकर की भूमिका में होंगे.
No icon

क्षेत्रीय पार्टियों का प्रभाव 180 सीटों पर

क्षेत्रीय पार्टियों का प्रभाव 180 सीटों पर, भाजपा को बहुमत न मिलने पर किंगमेकर की भूमिका में होंगे.

Nagpur: लोकसभा चुनाव में भाजपा को अगर बहुमत नहीं मिलता तो सरकार बनाने में क्षेत्रीय पार्टी अहम भूमिका निभा सकते हैं। किसी पार्टी को पूर्ण बहुमत न मिलने की स्थिति में ये पार्टियां किंगमेकर की भूमिका में होंगी। त्रिशंकुला लोकसभा की स्थिति में जगन मोहन रेड्डी की पार्टी वाईएसआर कांग्रेस, तेलंगाना में के.चंद्रशेखर राव, ओडिशा में नवीन पटनायक की पार्टी बीजद और सपा-बसपा गठबंधन अहम भूमिका निभाएंगे। इन दलों ने भाजपा और कांग्रेस से दूरी बना रखी है।

भाजपा और कांग्रेस के खिलाफ क्षेत्रीय पार्टियों का गरम मिजाज

पस्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तृणमूल और चंद्रबाबू नायडू की तेदेपा भी केंद्र में सरकार बनाने में बड़ी भूमिका निभा सकती है। ममता और नायडू लगातार भाजपा के खिलाफ नया मोर्चा तैयार करने में जुटे हुए हैं, इसके लिए वे कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने को भी तैयार हैं।

हालांकि, ममता बनर्जी भाजपा और कांग्रेस पर लगातार निशाना बना रही हैं। वहीं, उतर प्रदेश में सपा और बसपा गठबंधन भाजपा की जमकर आलोचना कर रहा है, तो उसने कांग्रेस के खिलाफ भी हमले जारी रखे हैं।

543 में 180 सीटों पर क्षेत्रीय पार्टियों का प्रभाव

543 लोकसभा सीटों में 180 पर क्षेत्रीय पार्टियों का प्रभाव है। इस लोकसभा चुनाव में ये पार्टियां कितनी सीटें जीतेंगी, इससे ही इनकी भूमिका तय होगी।

कुल सीटें  मुख्य क्षेत्रीय पार्टि राज्य
८० सपा-बसपा उत्तर प्रदेश
४२ तृणमूल बंगाल
२५ तेदेपा, वाईएसआर कांग्रेस आंध्र प्रदेश
२१ बीजद ओडिशा
१७ टीआरएस, तेदेपा तेलंगाना

जगन मोहन रेड्डी ने कहा था कि इस बार त्रिशंकुला संसद की उम्मीद है। इससे उन्हें राज्य के लिए बेहतर डील मिलेगी। अभिनेता और मक्कल निधि मय्यम के नेता कमल हसन ने भी कहा था, इस बार त्रिशंकुला संसद होगी। इस बार थर्ड फ्रंट की सरकार बनने की भी उम्मीद है।

चंद्रशेखर राव तीसरे फ्रंट की कोशिश में चंद्रशेखर राव 

लोकसभा चुनाव के ऐलान से पहले तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने बिना भाजपा और कांग्रेस के नया फ्रंट बनाने की कोशिश भी की थी। इसे चुनाव के बाद और हवा मिल सकती है। माना जा रहा है कि त्रिशंकुला संसद की स्थिति में एनडीए और यूपीए के कुछ सहयोगी दल भी इसमें शामिल हो सकते हैं।

Comment As:

Comment (0)